EV Charging station kaise khole – Best business tips 2022

0
69
EV Charging station kaise khole

EV Charging station kaise khole

 अगर आप Ev charging station kaise khole यह जानकारी पाने के लिए इस आर्टिकल पर आए हैं तो आप निश्चित रहे क्योंकि इस आर्टिकल में यह बताया गया है कि Ev charging station kaise khole और Ev charging station खोलने के लिए क्या-क्या नियम और क्या-क्या फायदे हैं।

इसका मतलब हम सभी जानते हैं कि डीजल और पेट्रोल के दाम कितने बढ़ गई है आप उससे भी ज्यादा समस्या यह है कि आज का वातावरण में प्रदूषण बहुत ज्यादा फैल रहा है। इसी को देखते हुए भारत सरकार ने भी इलेक्ट्रिक वाहनों पर जीएसटी टैक्स कम कर दिया है।  पहले इलेक्ट्रिक वाहनों पर हमला पर्सेंट जीएसटी टैक्स लगता था लेकिन अब उसे घटाकर पांच पर्सेंट कर दिया गया है। इससे यह साबित होता है कि भारत सरकार भी इलेक्ट्रिक वाहनों को प्रमोद करना चाहती है।

वर्तमान में भारत के कुछ शहरों में इलेक्ट्रिक वाहन का प्रचलन शुरू हो गए हैं। भारत सरकार द्वारा एक आकलन में यह बताया गया है कि साल 2023 तक सड़कों पर 20 लाख से लेकर एक करोड़ इलेक्ट्रिक वाहन दौड़ते हुए नजर आएंगे और साल 2030 तक 3 करोड़ से लेकर 5 करोड़ इलेक्ट्रिक वाहनों का लक्ष्य रखा गया है।

 जिस तरह सभी गाड़ियों को चलने के लिए डीजल और पेट्रोल की आवश्यकता होती है उसी तरह इलेक्ट्रिक वाहनों को भी ऊर्जा प्रदान करने के लिए चार्ज करने की जरूरत होती है। जिस तरह डीजल और पेट्रोल से चलने वाली गाड़ियों के लिए जगह-जगह पर पेट्रोल पंप लगे होते हैं ठीक उसी तरह इलेक्ट्रिक वाहनों को चलने के लिए भी जगह जगह इलेक्ट्रिक चार्जिंग स्टेशन होना जरूरी है।

इलेक्ट्रिक वाहनों के प्रचलन को देखते हुए आपके लिए Electric Vehicle charging station खोलना एक अच्छा बिजनेस साबित हो सकता है। यह एक ऐसा बिजनेस है जो कभी ना खत्म होने वाला बिजनेस है और आने वाले दिनों में इलेक्ट्रिक वाहनों का प्रचलन काफी बढ़ने वाला है।

 अगर आप Electric Vehicle charging station खोलने के बारे में जानकारी पाना चाहते हैं तो इस आर्टिकल में अंत तक बने रहें। इस आर्टिकल में हम बताएंगे कि Electric Vehicle charging station kya hai और Electric Vehicle charging station kaise khole. इन सभी जानकारियों को अच्छी तरह से समझने के लिए इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें।

EV Charging Station

EV Charging station kaise khole

जिस तरह हमारे डीजल और पेट्रोल से चलने वाले वाहनों को ऊर्जा प्राप्त करने के लिए डीजल और पेट्रोल की जरूरत होती है जिसके लिए जगह जगह पर पेट्रोल पंप लगे होते हैं। इलेक्ट्रिक वाहनों को भी चार्ज करने के लिए पेट्रोल  पंप की तरह इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन लगाए जाते हैं। यह पेट्रोल पंप जैसा ही होता है सिर्फ यहां पेट्रोल और डीजल की जगह इलेक्ट्रिक वाहनों को चार्ज किया जाता है।

 इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन में सभी सुविधाएं पेट्रोल पंप जैसी ही होती है। यहां पर गाड़ियों को चार्ज करने के लिए बड़े-बड़े चार्ज लगे होते हैं जिनकी मदद से वाहन चार्ज किए जाते हैं।

वर्तमान में इलेक्ट्रिक वाहनों को एसी और डीसी मोटर से चार्ज किया जा सकता है। अन्य देशों में इलेक्ट्रिक वाहन का प्रचलन बहुत बढ़ गया है वहां जगह-जगह इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन लगे होते हैं। भारत के कुछ शहरों में भी इलेक्ट्रिक वाहनों के चार्ज करने के लिए जगह-जगह इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन लगाए जा रहे हैं क्योंकि भविष्य में इलेक्ट्रिक वाहन का प्रचलन बहुत बढ़ने वाला है।

इलेक्ट्रिक वाहनों के चार्जर के प्रकार

EV Charging station kaise khole

जिस तरह हम अपने स्मार्टफोन को चार्ज करते हैं तो कभी-कभी स्लो चार्ज होता है और किसी किसी चार्जर से फास्ट चार्ज होता है ठीक इसी प्रकार इलेक्ट्रिक वाहनों के चार्जर में भी दो प्रकार के होते हैं।  आइए  इसके बारे में जानते हैं।

AC Charging

AC चार्जिंग के अंतर्गत जब इलेक्ट्रिक वाहनों  को चार्ज करने के लिए उससे plug करते हैं तो AC ऊर्जा सीधे इनवर्टर में जाती है और वह इन्वर्टर AC ऊर्जा को DC ऊर्जा में बदल कर बैटरी तक पहुंचाता है जिससे बैटरी चार्ज हो जाती है। AC चार्जिंग के द्वारा किसी भी बहन को चार्जिंग करने में बहुत ज्यादा समय लगता है।

AC चार्जर के भी दो प्रकार होते हैं जो निम्न है

1 – AC Level 1

AC level-1 वाले चार्जर 15 एंपियर के वॉल सॉकेट पर काम करते हैं। इस चार्जर की मदद से किसी भी वाहन को चार्ज करने में 10 से 12 घंटे का समय लगता है।।

2 – AC Level 2

इस प्रकार के चार्जर ज्यादातर घर में वाहनों को चार्ज करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इस चार्जर में एसी चार्जिंग बॉक्स लगी होती है जो कार के साथ ही आती है। इस चार्जर के द्वारा किसी भी  वाहन को महज दो से 4 घंटे में ही चार्ज किया जा सकता है।

DC Charging Station

DC चार्जिंग की मदद से वाहनों को बहुत फास्ट चार्ज किया जा सकता है। इस प्रकार के चार्जर  के द्वारा ऊर्जा सीधे बैटरी में स्टोर हो जाती है और किसी प्रकार का कोई रूपांतरण नहीं होता है जिसके कारण किसी भी वाहन को DC चार्जिंग की मदद से तुरंत चार्ज किया जा सकता है।

 इस प्रकार के चार्जर से चार्ज करने के लिए ज्यादा मात्रा में पावर की आवश्यकता होती है। इलेक्ट्रिक वाहन स्टेशनों और राजमार्गों पर लगे वाहन चार्जिंग स्टेशनों में डीसी चार्जिंग का ही इस्तेमाल किया जाता है। इस प्रकार के चार्जर के साथ वाहन चार्जिंग स्टेशन चलाने के लिए एक अलग ट्रांसफार्मर की आवश्यकता होती है।

Read this – ITC Franchise kaise shuru kare

Ev Charging station खोलने की प्रक्रिया 

इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन खोलने के लिए किसी ज्यादा मापदंड की आवश्यकता नहीं होती है। अगर आप इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन खोलना चाहते हैं तो विद्युत मंत्रालय द्वारा कुछ नियम और गाइडलाइंस है जिन्हें आप को फॉलो करना होगा।

 अगर आप इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन के लिए आवेदन करना चाहते हैं तो सबसे पहले विद्युत मंत्रालय  यानी मिनिस्ट्री ऑफ आवर डिपार्टमेंट की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर आवेदन कर सकते हैं या इसके लिए बहुत सारी कंपनियां भी मौजूद है जिनकी मदद से आप आसानी से इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन खोल सकते हैं।  इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन उपलब्ध करवाने वाले कुछ महत्वपूर्ण कंपनियों के बारे में बताया गया है।

EV Charging station Franchise Companies

यहां नीचे दिए गए इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग फ्रेंचाइजी देने वाली कंपनियों  मैं आवेदन करके आप आसानी से इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन खोल सकते हैं।

  • Evolt
  • Fortum India
  • Mass Tech
  • TATA Power
  • ENSTO
  • Tata Power

EV Charging Station Requirment

अगर आप इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन खोलना चाहते हैं तो नीचे दिए गए सभी सुविधाओं और आवश्यकता ओं का ध्यान रखना होगा।

  • एक इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन में कम से कम 3 एसी चार्जर और 2 डीसी चार्जर उपलब्ध होने चाहिए और वह भी ISO द्वारा प्रमाणित होना चाहिए।
  • इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन के लिए एक अलग से ट्रांसफार्मर होना जरूरी है क्योंकि इलेक्ट्रिक वाहन  चार्जिंग स्टेशन को बहुत ज्यादा पावर की आवश्यकता होती है।
  • पेट्रोल पंप की तरह इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन में भी आपको कुछ महत्वपूर्ण सुविधाओं का ध्यान रखना होगा जैसे चार्जिंग स्टेशन के चारों तरफ सीसीटीवी कैमरा लगा होना चाहिए,  पीने के पानी की सुविधा उपलब्ध होनी चाहिए, पार्किंग की व्यवस्था होनी चाहिए और टॉयलेट की व्यवस्था भी होनी चाहिए।
  •  इलेक्ट्रॉनिक वाहन चार्जिंग स्टेशन खोलने के लिए आपके पास कुशल स्टाफ भी होनी चाहिए।
  •  सभी वाहनों के लिए हवा भरने की सुविधा उपलब्ध होनी चाहिए।

 Conclusion

आज की इस आर्टिकल में हमने इलेक्ट्रॉनिक वाहन चार्जिंग स्टेशन खोलने के बारे में बताया है। हम आशा करते हैं कि आप को इस आर्टिकल से मदद मिलेगा। अगर आप इस आर्टिकल से संबंधित कोई प्रश्न पूछना चाहते हैं तो आप हमें कमेंट कर सकते हैं।

FAQ

Q. – इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन खोलने में कितनी लागत आती है?

ans. – एक इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन को खोलने में आपको बहुत सारी चीजों का ध्यान रखना होता है जैसे बिजली कनेक्शन, सिविल कार्य, सॉफ्टवेयर, भूमि और रखरखाव की सुविधा इत्यादि के अलावा लाइसेंस भी लेना होता है। इन सभी चीजों को मिलाकर एक इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन को खोलने में 10 लाख रुपए से लेकर ₹30 लाख तक लागत आ जाती है।

Q. 2 – इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन कितनी दूरी पर होना चाहिए?

ans. – इसके लिए सरकार द्वारा दिशा निर्देश दिया गया है कि शहरों में प्रत्येक 3 किलोमीटर पर हौर मुख्य राजमार्गों पर प्रत्येक वर्ष इस किलोमीटर पर एक इलेक्ट्रॉनिक वाहन चार्जिंग स्टेशन खोले जा सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here